International HR Conclave on Redefining the Role of Skills & HR in post-COVID World

भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी में आयोजित की गई इंटरनेशनल एच आर कॉन्क्लेव  कोविड-19 के दौर में आ रही मानव संसाधन प्रबंधन चुनौतियों पर चर्चा में भाग लिया सात देशो के ह्यूमन रिसोर्से मैनेजमेंट एक्सपर्ट्स ने

अजमेर रोड जयपुर स्थित भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी में वर्ड युथ स्किल्स डे के अवसर पर 21 दिवसीय स्किल्स कार्निवल का आयोजन 21 जून से 15 जुलाई तक आयोजित किया जा रहा है I इस दौरान कई प्रकार के स्किल्स से संबंधित कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं इसमें ग्लोबल क्विज, एक्सपर्ट लेक्चरस, वीडियो कॉम्पीटीशन आदि शामिल है

कल इसी सीरीज़ में अंतरराष्ट्रीय हुमन रिसोर्स (एच आर) कॉन्क्लेव का आयोजन किया गया जिसमें देश विदेश के एच आर  एक्सपर्ट्स ने कोविड-19 के दौर में मानव संसाधन के प्रबंधन में आ रही चुनौतियों पर अपने-अपने विचार व समाधान सुझाए I कल के कार्यक्रम की शुरुआत विश्वविद्यालय के डॉ शेखर कपूर द्वारा एक्सपर्ट्स के स्वागत भाषण से हुई I

मलेशिया में कार्यरत बी एन जी  कॉरपोरेशन के सी पी ओ  श्री अभिषेक माथुर ने अपने एक्सपर्ट लेक्चर में कहा कि पहले एच आर को केवल कार्य के बारे में सोचना पड़ता था  लेकिन अभी कोविड-19 की वजह से काम करने वाले के साथ – साथ  काम करने वाले की लोकेशन  के बारे में भी सोचना पड़ता है इसलिए आज इस क्षेत्र में चैलेंज बढ़ता जा रहा है I

वही कोफोराज टेक  ग्रुप की एच आर स्वाति दीक्षित ने कहां कि कोविड-19 की वजह से आज क्राइसिस मैनेजमेंट महत्वपूर्ण हो गया है क्योंकि एंप्लोई के साथ-साथ उसकी फैमिली की चिंता भी करनी पड़ रही है यदि फॅमिली का कोई भी मेंबर्स कौविड पॉजिटिव है तो एम्प्लॉई  के स्वास्थ्य पर ध्यान रखना जरुरी हो गया है I

अंकुरा के एचआर एंड लर्निंग डायरेक्टर जोश वर्गीज ने कहा कि पहले हम ईसा पूर्व और ईसा बाद का रिफरेन्स देते थे लेकिन कौविड का वजह से इतना चेंज आ रहा है कि किसी भी घटना के बारे  अब हमें  कोविड-19 के पहले और कोविड-19 के बाद का रेफेरेंस देना पड़ रहा है इसलिए कोविड-19 ने प्रत्येक क्षेत्र में सीधा प्रभाव डाला है I

विक्रम आनंद ने हाइब्रिड मोड में काम करने की प्रक्रिया अपनाने पर जोर दिया जिसमें वर्क फ्रॉम होम और वर्क एट ऑफिस में संतुलन बनाने की सलाह दी गई है I  नाइजीरिया से हेड एचआर अबिम्बोला अवुदु ने कहा कि कोविड-19 के वजह से एच आर का रोल बहुत डायनेमिक हो गया है क्योंकि लीव मैनेजमेंट भी बहुत क्रिटिकल हो गया है I  कार्यक्रम में कुछ अन्य लोगों ने भी अपने-अपने विचार रखे,  वहीं विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर प्रोफेसर डॉक्टर अचिंतया  चौधुरी ने कहा कि कोविड-19 में ह्यूमन रिसोर्स के प्रबंधन कर्ताओं के सामने बहुत चैलेंज आ रहे हैं और विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित इस तरह की अंतरराष्ट्रीय कॉन्क्लेव में विचारों के आदान-प्रदान से एचआर मैनेजमेंट को अपने सुचारू काम करने में सहायता मिलती है  Iविश्वविधालय की रजिस्ट्रार डॉ सुशीला शर्मा  ने विश्वविद्यालय की तरफ से सभी एक्सपर्ट्स का हार्दिक आभार प्रकट किया Iकार्यक्रम के संयोजक डॉ राजदीप देब ने  वोट ऑफ थैंक्स दिया I कार्यक्रम में तकनीकी सहयोग असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ  मृदु गोयल व रमणी तलवार का रहा I